श्रीलंका के बल्लेबाज को आउट करने के तरीके पर मचा बवाल, वेस्ट इंडीज और कायरन पोलार्ड घिरे

श्रीलंका और वेस्ट इंडीज (Sri lanka vs West Indies) के बीच पहले वनडे में अब्स्ट्रक्टिंग दी फील्ड आउट देने पर विवाद हो गया.

वेस्ट इंडीज और श्रीलंका के बीच पहले वनडे मैच में विवाद हो गया. श्रीलंका के बल्लेबाज दनुष्का गुणातिलका (Danushka Gunathilaka) को आउट करने पर सवाल उठ रहे हैं. वे अब्स्ट्रक्टिंग दी फील्ड यानी मैच में बाधा पहुंचाने के चलते आउट करार दिए गए. इसी को लेकर विवाद हो रहा है. यह घटना श्रीलंकाई पारी के 22वें ओवर में हुई. यह ओवर वेस्ट इंडीज के कप्तान कायरन पोलार्ड (kieron Pollard)ने किया. वे दूसरे विकेट के रूप में आउट हुए. उन्होंने 61 गेंद में सात चौकों की मदद से 55 रन बनाए. उन्होंने दिमुथ करुणारत्ने के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 55 रन जोड़े.

उनकी पहली गेंद पर दनुष्का गुणातिलका ने शॉट खेला. इस पर नॉन स्ट्राइक पर खड़े पाथुम निसंका रन के लिए दौड़े. वे काफी आगे तक आ गए थे. इस दौरान गुणातिलका भी क्रीज से बाहर आ गए. लेकिन जब उन्होंने देखा कि रन नहीं हो पाएगा तो वे वापस क्रीज में लौटने लगे. इसी दौरान उनका पैर गेंद से लगा और गेंद पीछे की तरफ चली गई. इस दौरान पोलार्ड गेंद को पकड़ने के लिए दौड़े लेकिन गुणातिलका की वजह से वे पकड़ नहीं सके. इससे वे काफी गुस्से में दिखे. उन्होंने फौरन अंपायर से शिकायत की और अपील की. इस पर अंपायर जोएल विलसन ने फैसले को थर्ड अंपायर को भेज दिया. उन्होंने रिप्ले देखने के बाद बिना देरी किए गुणातिलका को आउट करार दे दिया.

आउट देने को लेकर उठे सवाल

रिप्ले में दिखा रहा था कि गुणातिलका ने जानबूझकर गेंद को पकड़ने से नहीं रोका था. मैच के दौरान हो रही घटनाओं के चलते उनका पैर गेंद को लगा. इसी के चलते सवाल उठा. हालांकि एक पक्ष यह भी था कि गेंद क्रीज के बाहर थी और इस पर बल्लेबाज का पैर लगना नियमों का उल्लंघन माना जाता है. इसी वजह से अंपायर ने उन्हें आउट करार दिया. क्रिकेट के कई जानकारों ने गुणातिलका को नॉट आउट बताया तो कई ने अंपायर के फैसले को सही कहा.

Source – Tv9 Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *