जिस नेता को वाजपेयी ने हीरो बनने से रोका, अब नीतीश सरकार में बने मंत्री

political news

हाल ही में एमएलसी बने बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन (Shahnawaz hussain) को भी नीतीश सरकार में मंत्री बनाया गया है। शाहनवाज हुसैन ने बताया था कि जब वह केंद्रीय मंत्री थे उसी दौरान मुंबई के कुछ फिल्म निर्माता उनसे लगातार संपर्क में थे। वे फिल्म निर्माता शाहनवाज हुसैन को बतौर हीरो फिल्मों में लॉन्च करना चाहते थे।

बिहार में नीतीश मंत्रिमंडल का पहला विस्तार हो गया है। सरकार बनने के 84 दिनों बाद हुए कैबिनेट विस्तार में 17 मंत्रियों ने शपथ ली। इसमें भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 9 और उसकी सहयोगी पार्टी जनता दल (युनाइटेड) के 8 लोग शामिल हैं। हाल ही में एमएलसी बने बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन को भी मंत्री बनाया गया है। शाहनवाज हुसैन बीजेपी में उन गिने चुने नेताओं में से एक हैं जो मुस्लिम समाज से आते हैं। 12 दिसंबर 1968 में के सुपौल जिले में जन्में शाहनवाज हुसैन शुरुआती दिनों से ही केंद्र की राजनीति में सक्रिय रहे। यह पहला मौका है जब वे राज्य की राजनीति में आए हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी कैबिनेट में मंत्री रहे शाहनवाज
शाहनवाज हुसैन पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बेहद खास माने जाते रहे। साल 2003 से 2004 तक वाजपेयी की सरकार में शाहनवाज केंद्रीय मंत्री भी रहे। शाहनवाज ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत 1999 में 13वें लोकसभा चुनाव के दौरान शुरू किया था। बेहद कम उम्र में शाहनवाज केंद्र सरकार में राज्य मंत्री बने थे। इस दौरान वह मानव संसाधन, युवा मामले, खेल, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग जैसे विभाग संभालते रहे। 2001 में शाहनवाज कोयला मंत्री और बाद में नागरिक उड्डयन मंत्री भी रहे। 2003 में वे वस्त्र मंत्री भी बने।

बॉलीवुड में हीरो बनने का मिला मौका, पर वाजपेयी ने रोका
लोकसभा टीवी चैनल के साथ बातचीत में शाहनवाज हुसैन ने बताया था कि जब वह केंद्रीय मंत्री थे उसी दौरान मुंबई के कुछ फिल्म निर्माता उनसे लगातार संपर्क में थे। वे फिल्म निर्माता शाहनवाज हुसैन को बतौर हीरो फिल्मों में लॉन्च करना चाहते थे। फिल्म निर्माताओं के कई बार अनुरोध करने पर शाहनवाज हुसैन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से इस संदर्भ में बात की। इसपर वाजपेयी ने उन्हें पहले ठीक से निहारा और कहा- ‘आप राजनेता ही अच्छे हैं, रहने दीजिए फिल्मों की बातें।’ इसके बाद शाहनवाज हुसैन ने फिल्मों में जाने का मन बदल दिया।

लोकसभा चुनाव में हार के बाद हाशिये पर थे शाहनवाज
साल 2004 में हुए आम चुनाव में शाहनवाज हुसैन हार गए। 2006 में दोबारा भागलपुर सीट से जीते। 2014 का लोकसभा चुनाव बेहद कम अंतर से हार गए। 2019 में उन्हें लोकसभा का टिकट नहीं मिला। इस वजह से राजनीतिक रूप से हाशिये पर चल रहे थे। हालांकि शाहनवाज हुसैन लगातार बीजेपी प्रवक्ता की भूमिका निभाते रहे। शाहनवाज हुसैन के नाम देश के सबसे युवा केंद्रीय मंत्री बनने का रेकॉर्ड है। उन्हें ‘द ऑरिजनल यूथ लीडर’ भी कहा जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *