चीन ने लगाई भारतीय लोगों के मोबाइल में सेंध, डेढ़ महीने में 250 करोड़ की ठगी

Mobile hacked

विमल कौशिक, नई दिल्‍ली: लॉकडाउन में जब लोग अपनी नौकरियां खो रहे थे। तब एक उम्मीद की किरण नजर आई कि वह अब घर बैठकर भी पैसे कमा सकते है। लेकिन उन्हें नही पता था कि ये लालच एक बड़ी साजिश का हिसा है, जो देश की सरहद से बाहर बैठे दुश्मन ने रची है। दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने एक ठगों के एक ऐसे गैंग का भंडाफोड़ किया है, जो देश से बाहर चीन में बैठकर लाखों लोगों को चूना लगा चुके थे। महज डेढ़ महीने में ही चीन के इन चालबाजों ने 5 लाख लोगों की मेहनत की कमाई लूट ली, वह भी छोटी-मोटी नहीं बल्कि 250 करोड़।

दिल्ली पुलिस के साइबर सेल ने 11 लोगों को गिरफ्तार करके ठगी के एक नए नेटवर्क का भांडाफोड़ किया है। दरअसल, इस वक़्त देश मे ऑनलाइन फ्रॉड बड़ी तेजी से बढ़ा है। इसीलिए साइबर सेल भी काफी एक्टिव हो गया है। इस साल की शुरुआत में पुलिस ने 2 चीनी एप्‍लिकेशन पर एक्शन लिया था। लेकिन उसके कुछ समय बाद पुलिस को जानकारी मिली कि कुछ और चीनी एप्प है, जो फिर से सक्रिय हो गयी है जो ठगी के साथ-साथ बड़े पैमाने पर देश के लोगों का डेटा भी चोरी कर रही है।

मई के दूसरे हफ्ते में पुलिस को पता चला कि पावर बैंक, Sun फैक्ट्री और इजी प्लान नाम की एप्प है, जो बड़ी तेजी से डाउनलोड ही रही है। ये एप्प इसके माध्यम से लोगों का डेटा चोरी करके विदेश भज रही है। इसके बाद तुरंत इन एप्प को फॉरेंसिक लैब के जरिये Analisye किया गया तो पता चला कि ये एप्प चीन से ऑपरेट हो रही है। जिसमें लोगों को पैसे इन्वेस्ट कर पैसे कमाने का लालच दिया जा रहा था। इसके बाद पुलिस ने देखा कि भले ही इनके सर्वर चीन में हो, लेकिन कुछ लोग यही बैठकर ये सारा खेल खेल रहे है। जिसके बाद पुलिस ने पश्चिम बंगाल और दिल्ली-एनसीआर में भी कई जगह रेड की। पश्चिम बेंगाल से पुलिस ने रोबिन अली नाम के शख्‍स को दबोचा, जो अकेले 30 एकाउंट को हैंडल कर रहा था। उसके बाद उसके 10 अन्य साथियों को पकड़ा गया। जिसमें हर एक का अलग रोल था।

रोबिन ने पुलिस को बताया कि वो लोग इन एप्प के जरिये तकनीक के नाम पर पैसे कमाने का लालच लोगों को दे रहे थे। एक बार शख्‍स इस एप्प को जॉइन करता था तो उसे और मेंबर्स बनाने का लालच दिया जाता था। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ सके। कोई भी शख्‍स इसमें महज 300 रुपए देकर जुड़ सकता था। लेकिन कई लोगों ने इसमें लाखों भी इन्वेस्ट किये है। जॉइन करने के बाद इनको 10 परसेंट का रिटर्न आता था, जिसके बाद लालच में लोग ज्यादा से ज्यादा पैसे डाल रहे थे। लेकिन सबसे बड़ी बात की ये पैसे केवल मोबाइल एप्लीकेशन में ही नजर आते थे, एकाउंट में नहीं।

इसके बाद ये पैसे Criptocurrency के जरिये शैल कंपनीज के एकाउंट में ट्रांसफर किया जाता था। ये शेल कंपनियां और एकाउंट भी फर्जी तरीके से बनाई गई। जिसमें मदद मिली चार्टेड अकाउंटेंट की। पुलिस ने 2 चार्टेड अकाउंटेंट को भी गिरफ्तार किया है। चीन में बैठे इस पूरे प्लान के मास्टरमाइंड अपने लिए ठगी का धंधा चलाने वालों को टेलीग्राम और यूट्यूब के माद्यम से तलाशते थे। पुलिस का मानना है कि अब तक करीब 50 लाख लोग इन एप्प्स को डाऊनलोड कर चुके है। जिसमे से अभी तक 5 लाख लोगों का पता चला है जो ठगी का शिकार हुए है। अभी तक कि जांच में पुलिस को 150 करोड़ की लूट का पता चला है, लेकिन अंदेशा है कि ये आंकड़ा 250 करोड़ तक जा सकता है। पुलिस ने 97 लाख रुपए बरामद किए है। पुलिस का कहना है कि चीन में बैठे इन ठगों पर करवाई के लिए जो प्रॉपर चैनल होगा, उसके जरिये अप्रोच की जाएगी।

Source – news24online

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *